आपातकाल के प्रकारों का वर्णन कीजिए ?

उत्तर- सामान्यतः तीन प्रकार के आपातकाल होते हैं , जिनकी घोषणा राष्ट्रपति केन्द्रीय मंत्रीमण्डल के लिखित परामर्श से कर सकता है । 

 

1. राष्ट्रीय आपात्काल- 

भारत के राष्ट्रपति यदि संतुष्ट हो जायें कि स्थिति बहुत विकट है तथा भारत अथवा उसके किसी भाग की सुरक्षा खतरे में है , युद्ध अथवा बाहरी आक्रमण या क्षेत्र के अंतर्गत सशस्त्र विद्रोह के कारण समस्या विकट हो सकती है , तब राष्ट्रपति ऐसी स्थिति उत्पन्न होने से पहले भी आपात्काल की घोषणा कर सकता है । वर्तमान में राष्ट्रपति ऐसी संकटकालीन घोषणा केवल मंत्रीमण्डल की लिखित अनुशंसा पर ही कर सकता है । 

 

2. राज्य में संवैधानिक तंत्र की विफलता से उत्पन्न आपात्काल- 

राष्ट्रपति किसी राज्य के राज्यपाल की रिपोर्ट पर या किसी अन्य प्रकार से संतुष्ट हो जाए , कि वहाँ राज्य का शासन विधिपूर्वक चलाया नहीं जा सकता है , ऐसी स्थिति में राष्ट्रपति आपातकाल की घोषणा कर संवैधानिक तंत्र की विफलता को रोकने का प्रयास करता है । आम बोलचाल में इसे राष्ट्रपति शासन भी कहा जाता है । 

 

3. वित्तीय संकट- 

यदि राष्ट्रपति संतुष्ट हो जाए कि भारत अथवा इसके किसी भाग की वित्तीय स्थिति या साख को खतरा है , तो वह वित्तीय संकट की घोषण कर सकता है । 

 

Leave a Comment