समाजवादी एवं पंथ निरपेक्षता का आशय समझाइए ?

उत्तर – समाजवादी – समाजवादी राज्य से अभिप्राय है कि भारतीय व्यवस्था ‘ समाज के समतावादी ढाँचे ‘ पर आधारित होगी । प्रत्येक भारतीय की न्यूनतम आवश्यकताओं की पूर्ति की जाएगी । भारतीय परिस्थिति के अनुसार समाजवाद को अपनाया जाएगा । पंथ निरपेक्षता – पंथ निरपेक्षता का अर्थ है कि राज्य सभी पंथों की समान रूप से रक्षा करेगा और स्वयं किसी भी पंथ को राज्य के धर्म के रूप में नहीं मानेगा । सरकार द्वारा नागरिकों के मध्य पंथ के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाएगा । प्रत्येक व्यक्ति को अपने विश्वास , धर्म और उपासना की स्वतंत्रता होगी । 

 

Leave a Comment