मानव विकास संकेतक का अर्थ बताते हुए इसके घटकों की व्याख्या कीजिए ।

उत्तर – विभिन्न देशों के विकास स्तर को मापने के लिए जो मापदण्ड संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा अपनाये गये हैं , उन्हें मानव विकास संकेतक कहते हैं । मानव विकास संकेतकों में भौतिक एवं अभौतिक दोनों प्रकार के घटकों को सम्मिलित किया गया है । इनमें भौतिक घटक के रूप में सकल घरेलू उत्पाद और अभौतिक घटक के रूप में शिशु मृत्यु दर , जीवन की सम्भाव्यता और शैक्षणिक प्राप्तियाँ आदि को लिया गया है । स्थिति होती है । मानव विकास सूचक के निर्माण में जीवन के तीन आवश्यक मूलभूत घटकों का प्रयोग किया जाता है । ये घटक हैं- 

( 1 ) एक लम्बे और स्वस्थ जीवन के मापन हेतु जन्म के समय जीवन प्रत्याशा । 

( 2 ) वयस्क साक्षरता दर तथा कुल नामांकन अनुपात । 

( 3 ) प्रतिव्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद । मानव विकास सूचक की गणना करने के लिए सबसे पहले उपर्युक्त तीन घटकों के अलग – अलग सूचक तैयार किये जाते हैं । तदुपरांत उनका औसत ज्ञात करके उनके मूल्य को 0 से 1 के मध्य प्रदर्शित किया जाता है । सबसे अधिक विकसित देश का सूचक एक तथा सबसे अधिक पिछड़े देश का सूचक शून्य के निकट होता है । 

 

Leave a Comment