भारतीय सेवाओं का विश्व में क्या योगदान है ?

उत्तर- भारतीय सेवाओं का विश्व में निम्नलिखित योगदान रहा है 

 

1. कम्प्यूटर साफ्टवेयर सेवाएँ- 

भारत ने पिछले कुछ वर्षों में कम्प्यूटर के क्षेत्र में काफी उन्नति की है । बैंगलौर , हैदराबाद , पूना एवं मुम्बई कम्प्यूटर के प्रमुख केन्द्र हैं , जहाँ पर निर्यात हेतु बड़ी संख्या में साफ्टवेयर तैयार किए जाते हैं । भारत में साफ्टवेयर का निर्यात विश्व के अनेक देशों में किया जाता है । अमेरिका , इंग्लैण्ड , फ्रांस , जर्मनी जैसे विकसित देशों में भारतीय कम्प्यूटर साफ्टवेयर विशेष लोकप्रिय हैं । 

 

2. संचार सेवाएँ- 

संचार सेवाओं के क्षेत्र में भी भारत विकसित देशों के समकक्ष है और दूर संचार सेवाओं का निर्यात करके विदेशी मुद्रा अर्जित कर रहा है । अब भारत अनेक देशों को दूर संचार सेवाओं के विकास हेतु सहयोग दे रहा है । मालदीव के डिजिटल चार्ट्स का भारत द्वारा आधुनिकीकरण किया गया है , तथा एक दूर संवेदी इकाई की स्थापना की गई है । नेपाल में दूरसंचार सेवाओं के लिए ‘ यूनाइटेड टेलीकॉम ‘ के नाम से एक संयुक्त कम्पनी का गठन किया गया है । 

 

3. बैंकिंग एवं वित्तीय सेवाएँ- 

30 जून , 2005 तक भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के 8 एवं निजी क्षेत्र के 2 बैंक ने 42 देशों में अपनी शाखाएं खोली हैं । इनमें स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया , बैंक ऑफ बड़ौदा एवं बैंक ऑफ इण्डिया प्रमुख हैं । इस प्रकार बैंकिंग एवं वित्तीय सेवाओं से भी भारत को लाभ हो रहा है । 

 

4. तकनीकी एवं परामर्श सेवाएँ- 

भारत ने अनेक क्षेत्रों में तकनीकी एवं प्रबन्धकीय कुशलता भी प्राप्त की है । फलतः भारत अनेक विकासशील एवं पिछड़े देशों को रेलवे लाईन के निर्माण , सड़क निर्माण , कारखानों के निर्माण में तकनीकी एवं परामर्श सेवाएं दे रहा है । ईरान , अफगानिस्तान , म्यांमार , भूटान , नेपाल , मालदीव एवं अफ्रीका के कई देशों में बुनियादी संरचना से सम्बन्धित परियोजनाओं के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी भी भारत ने ली है । 

 

Leave a Comment