अधोसंरचना का अर्थ स्पष्ट करते हुए उसके अंगों के विषय में संक्षेप में लिखिए ?

उत्तर- अधोसंरचना का अर्थ – उद्योगों में उत्पादन के लिए मशीनरी , प्रबंध , ऊर्जा , बैंक , बीमा , परिवहन आदि साधनों की आवश्यकता होती है । ये सभी सुविधाएँ एवं सेवाएं सम्मिलित रूप से आधारभूत संरचना कहलाती हैं । दूसरे शब्दों में , अधोसंरचना से अभिप्राय उन सुविधाओं , क्रियाओं तथा सेवाओं से है , जो उत्पादन के अन्य क्षेत्रों के संचालन तथा विकास एवं दैनिक जीवन में सहायक होती हैं । अधोसरंचना के प्रमुख अंग निम्नलिखित हैं 

 

1. ऊर्जा- 

अधोसंरचना के प्रमुख अंगों में ऊर्जा का महत्वपूर्ण स्थान है । किसी भी देश का आर्थिक विकास उपलब्ध ऊर्जा के संसाधनों पर निर्भर करता है , क्योंकि कृषि , उद्योग , खनिज , परियहन आदि ऊर्जा के बिना अधूरे हैं । 

 

2. परिवहन- 

परिवहन अधोसंरचना का एक अन्य महत्वपूर्ण अंग है । किसी भी राष्ट्र की अर्थव्यवस्था में परिवहन का महत्वपूर्ण योगदान होता है । परिवहन का महत्व आर्थिक व सामाजिक दोनों दृष्टिकोण से होता है । परिवहन के साधनों में बैलगाड़ी , बस , ट्रक , ट्रेक्टर , जहाज , रेल , हवाई जहाज आदि शामिल हैं । 

 

3. संचार साधन- 

संचार साधन अधोसंरचना के महत्वपूर्ण अंगों में से एक है । संचार सेवाओं के विस्तार से राष्ट्र की अर्थव्यवस्था में गति आती है । संचार साधनों में इंटरनेट , कम्प्यूटर , डाक प्रणाली , उपग्रह आदि शामिल हैं , जो अर्थव्यवस्था को आधुनिक व विकसित बनाते हैं । 

 

4. बैंकिंग – 

बीमा एवं वित्त- तीव्र आर्थिक विकास के लिए बैंकिंग बीमा एवं वित्त का महत्वपूर्ण स्थान है । इनसे राष्ट्र में आय , रोजगार एवं विकास दर में वृद्धि होती है । 

 

5. शिक्षा एवं स्वास्थ्य- 

शिक्षा एवं स्वास्थ्य के अभाव में अर्थव्यवस्था का विकास सम्भव नहीं है । स्वास्थ्य एवं शिक्षा के माध्यम से राष्ट्र को विकास के पथ पर तीव्र गति से ले जाया जा सकता है । 

 

6. व्यापार एवं पर्यटन- 

व्यापार एवं पर्यटन विदेशी मुद्रा प्राप्ति में सहायक होते हैं , जिससे भुगतान संतुलन बनाया जा सकता है । इससे राष्ट्र के विकास को बढ़ावा मिलता है । 

 

Leave a Comment