अभ्रक का क्या उपयोग है ? भारत में अभ्रक कहाँ – कहाँ मिलता है

उत्तर- यह पुरानी कायान्तरित शैलों में पाया जाता है । यह परतदार , हल्का तथा चमकीला होता है । यह गरमी तथा बिजली के लिए कुचालक होता है । बहुत से उद्योगों में इसका उपयोग होता है । जैसे- औषधि बनाने में , बिजली के संचालन , टेलिफोन , रेडियो , वायुयान , मोटर परिवहन आदि उद्योग में । अभ्रक के उत्पादन में भारत का स्थान विश्व में दूसरा है । विश्व का 26 प्रतिशत अभ्रक भारत से प्राप्त होता है । बिलासपुर और प्राप्ति के क्षेत्र- भारत में अभक मुख्यतया बिहार , तमिलनाडु , आन्ध्रप्रदेश , राजस्थान व कर्नाटक राज्यों से प्राप्त होता है । भारत का 60 प्रतिशत अभ्रक बिहार और झारखण्ड से प्राप्त होता है । गया , मुंगर व हजारीबाग जिलों में अभ्रक की खदानें हैं । बिहार का अभ्रक स्वच्छता एवं सफेदी के लिए विश्व प्रसिद्ध है । इसीलिए बिहार के अभ्रक को रूबी अभ्रक ‘ ( Ruby Mica ) कहते हैं । तमिलनाडु में अभ्रक नीलगिरि , मदुराई , कोयम्बटूर तथा सलेम जिलों में पाया जाता है । आन्ध्रप्रदेश के नेल्लूर , गुंटुर , विशाखापट्टनम तथा पश्चिमी गोदावरी जिलों में अभ्रक पाया जाता है । यहाँ का अभ्रक हरे रंग का होता है और शीघ्र पहचान में आ जाता है । राजस्थान के भीलवाड़ा , जयपुर , उदयपुर , टोंक , सीकर तथा अजमेर में अभ्रक मिलता है । मध्यप्रदेश के ग्वालियर , छत्तीसगढ़ के बस्तर , कर्नाटक के हासन तथा केरल के पुन्नालूर जिले में अभ्रक पाया जाता है । इसके अलावा हरियाणा के नारनौल ( महेन्द्रगढ़ ) व गुड़गाँव तथा हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिलों में भी अभ्रक मिलता है । 

 

Leave a Comment