ताँबा अयस्क पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए ।

उत्तर- ताँबा कायान्तरित शैलों में पाया जाता है । इसके साथ चाँदी , टिन , सीसा , सोना आदि धातुएँ भी मिली रहती हैं । शुष्क ताँबा बहुत लचीला होता है । यह लाल भूरे रंग का होता हैं । यह बिजली का उत्तम सुचालक है तथा घिसावट को रोकता है । ताँबे को अन्य धातुओं के साथ मिलाने पर एक नई धातु तैयार हो जाती है , इसीलिए ताँबा खनिजों में कुंजी – धातु कहलाती है । भारत में ताँबा का उपयोग प्राचीन काल से होता रहा है । बिजली के तार , टेलीफोन व टेलीग्राफ के यंत्र , बर्तन व सिक्के बनाने में ताँबा का बहुत उपयोग होता विश्व के ताँबा उत्पादक देशों में भारत का तीसरा स्थान है । भारत के ताँबा उत्पादक प्रमुख क्षेत्रों में झारखण्ड का सिंहभूमि , राजस्थान का अलवर , झुनझुनू , बाँसवाड़ा एवं झालावाड़ , पश्चिम बंगाल का दार्जिलिंग , आंध्रप्रदेश का गुण्टर , सिक्किम , कर्नाटक का चित्रदुर्ग , उत्तराखण्ड का गढ़वाल , अल्मोड़ा व देहरादून , हिमाचल का कुल्लू एवं कांगड़ा घाटी और मध्यप्रदेश का बालाघाट जिला प्रमुख हैं । 

 

Leave a Comment