औषधीय उद्यान विधि के अंतर्गत कौन – कौन सी फसलों का उत्पादन संभव है ? लिखिए ।

उत्तर – औषधीय उद्यान विधि के अन्तर्गत निम्नलिखित फसलों का उत्पादन संभव है – 

 

1. फल- 

भारत में उष्ण कटिबंधीय फलों के अंतर्गत आम , कतरेलों , नींबू , अनन्नास , पपीता , अमरुद , चीकू , लीची , अंगूर तथा शीतोष्ण कटिबंधीय फलों में सेब , आडु , नाशपाती , खूबानी , बादाम , अवरोट और शुष्क क्षेत्र के फलों में आंवला , बेर , अनार और अंजीर का उत्पादन होता है ।

 

2. सब्जियाँ- 

सब्जियों की पैदावार में चीन के बाद दूसरा स्थान भारत का है । भारत में उगाई जाने वाली प्रमुख टमाटर , प्याज , बैंगन , पत्तागोभी , फूल गोभी , मटर , आलू व खीरा है । 

 

3. फूल- 

गुलाब , ग्लैडियोला , ट्यूब रोज , कोसाद्रो प्रमुख फूल है । इनकी खेती भारत में परम्परागत ढंग से हो रही है । 

 

4. मसाले- 

भारत मसालों का घर कहा जाता है । यहाँ काली मिर्च , इलायची , अदरक , लहसुन , हल्दी , मिर्च के साथ – साथ बीज वाले मसालों का उत्पादन होता है । भारत मसालों में सबसे बड़ा उत्पादक उपभोक्ता एवं निर्यातक देश है । 

 

5. औषधीय व सुगंधित पौधे- 

लगभग 2000 देशी प्रजातियों का औषधि के रूप में एवं 1300 प्रजातियों को सुगंधित एवं महक देने वाले पौधों के रूप में चिन्हित किया गया है ।

 

Leave a Comment