भारत में निर्यात संवर्द्धन के लिए किए गए प्रयासों का वर्णन कीजिए ?

उत्तर -1. विभिन्न संगठनों की स्थापना- भारत सरकार ने निर्यात के लिए बाजार खोजने , घरेलू माल का विदेशों में प्रचार करने तथा निर्यातकों को सुविधा देने के लिए विदेशी व्यापार संस्थान , आयात – निर्यात सलाहकार परिषद , राजकीय व्यापार निगम , निर्यात संवर्द्धन परिषद , सूती वस्त्र निगम , जूट निगम , निर्यात आयात बैंक की स्थापना की है । 

2. व्यापार विकास संस्था – निर्यात संवर्द्धन के क्षेत्र में कार्यरत विभिन्न संस्थाओं में समन्वय स्थापित कर आवश्यक सेवाएं उपलब्ध कराने हेतु व्यापार विकास संस्था को स्थापित किया गया । 

3. राजकीय व्यापार निगम की स्थापना – निर्यात के विविधीकरण , विद्यमान बाजार को विस्तार देने एवं निर्यात कर आवश्यक सेवाएँ उपलब्ध करने हेतु व्यापार विकास संस्था को स्थापित किया गया । 

4. निर्यातगृहों की स्थापना- मान्यताप्राप्त संस्थाओं को निर्यात संवर्द्धन के लिए विपणन विकास , निधि से आर्थिक सहायता प्रदान कराने हेतु इसकी स्थापना की गई । भारत सात निर्यात संसाधन क्षेत्र हैं कांडला ( गुजरात ) , सांताक्रूज ( महाराष्ट्र ) , कोच्चि ( केरल ) , चैन्नई ( तामिलनाडु ) , नोएडा ( उत्तरप्रदेश ) , फाल्टा ( पश्चिमी बंगाल ) , विशाखापट्टनम ( आन्ध्रप्रदेश ) । यहाँ कस्टम किलीयरेंस की सुविधाएँ हैं । 

5. भारतीय निर्यात – आयात बैंक की स्थापना- निर्यात व्यापार को बढ़ावा देने हेतु । निर्यात आयात बैंक की स्थापना की गई है । 

6. ग्रीन कार्ड- सरकार ने निर्यात को तेजी से बढ़ाने के उद्देश्य से शतप्रतिशत निर्यात करने वाली संस्थाओं को ग्रीन कार्ड जारी किया है । 

7. उदार लाइसेंस प्रणाली- सरकार ने 1992 में नई आयात – निर्यात नीति की घोषणा करके । लाइसेंस प्रणाली को काफी उदार बना दिया है इससे मुक्त व्यापार को बढ़ावा मिलता है । 

 

Leave a Comment