बाढ आपदा के लिए उत्तरदायी कारकों का वर्णन करते हुए उसके नियन्त्रण के उपाय बताइए ।

उत्तर- 

( 1 ) तटबन्ध टूटने , बाँध टूटने और बराज से अधिक पानी छोड़े जाने के कारण बाढ़ आती है । अविवेक पूर्ण तरीके से तट बन्धों का निर्माण होने , पुराने व जीर्ण हो रहे बाँधों के कारण बाढ़ आती है । 

( 2 ) हिमालय क्षेत्र में बहने वाली नदियों में मिट्टी और गाद पानी के साथ घुलकर बहकर मैदानों एवं समुद्र तटीय क्षेत्रों में जमा हो जाती है । इससे नदियों का तल उठ जाता है और उनकी जल धारा ही बाढ़ का रूप धारण कर लेती है । 

( 3 ) पर्वतीय क्षेत्रों में भूस्खलन द्वारा नदी का मार्ग अवरुद्ध होने से जलाशय बन जाते हैं और फिर उनके अचानक टूटने से प्रलयकारी बा आती हैं । 

( 4 ) पर्वतीय क्षेत्रों में सड़कों के निर्माण , वन कटाई , अनियन्त्रित खनन से पहाड़ों की भूमि अस्थिर हो गई है , जिससे बाढ़ आने की संभावना बढ़ जाती है । 

 

बाढ आपदा नियन्त्रण के निम्नलिखित उपाय हैं-

 

( 1 ) नदियों के ऊपरी क्षेत्रों में अनेक जलाशय बनाये जाने चाहिए । 

( 2 ) सहायक नदियों व धाराओं पर अनेक छोटे – छोटे बाँध बनाए जाने चाहिए , जिससे मुख्य नदी में बाढ़ के खतरे को कम किया जा सके । 

( 3 ) नदियों के ऊपरी जल संग्रहण क्षेत्रों में सघन वृक्षारोपण किया जाना चाहिए । 

( 4 ) मैदानी क्षेत्रों में अनुपयुक्त भूमि में जल संग्रहण किया जाना चाहिए । 

( 5 ) तट बन्धों की सुरक्षा की ओर ध्यान दिया जाना चाहिए । 

( 6 ) तटबन्धों के बीच फंसे हुए गाँवों की सुरक्षा के लिए पूर्ण अथवा आंशिक पुनर्वास किया जाना चाहिए । 

( 7 ) नदियों के किनारों की भूमि पर मानवीय बस्तियों के अतिक्रमण पर रोक लगाई जानी चाहिए ।

( 8 ) नदियों के जल ग्रहण क्षेत्रों में वन विनाश पर नियन्त्रण किया जाना चाहिए । 

( 9 ) पर्वतीय क्षेत्रों में सड़क निर्माण के समय विस्फोटकों का सीमित उपयोग कर भूस्खलन पर नियन्त्रण किया जाना चाहिए । 

 

Leave a Comment