1857 की क्रांति के राजनीतिक कारण को समझाइए ।

उत्तर- अंग्रजों की राज्य विस्तार की नीति के कारण भारत के अनेक शासकों और जमींदारें । असन्तोष व्याप्त हो गया था । लार्ड वैलेजली की सहायक संधि व्यवस्था और लार्ड डलहौजी की हड़प नीति के कारण अनेक राज्यों को अंग्रेजी साम्राज्य जबरदस्ती विलय कर दिया गया । अंग्रेजों ने पंजाब , सिक्किम , सतारा , जैतपुर , सम्भलपुर , झाँसी , नागपुर आदि राज्यों को अपने अधीन कर लिया था । सरकार ने अवध , तंजौर , कर्नाटक के नवाबों की राजकीय उपाधियाँ समाप्त कर राजनीतिक अस्थिरता की स्थिति उत्पन्न कर दी । अंतिम मुगल सम्राटों के प्रति अंग्रेजों का व्यवहार अनादरपूर्ण होता चला गया । इन परिस्थितियों में शासक परिवारों में घबराहट फैल गयी थी । अंग्रेजों ने जिन राज्यों पर कब्जा किया वहाँ के सैनिक , कारीगर तथा अन्य व्यवसायों से जुड़े लोग भी प्रभावित हुए । अंग्रेजों ने अनेक सरदारों और जमींदारों से उनकी जमीन छीन ली । इसके कारण इन जमींदारियों में कार्यरत व्यक्ति बेरोजगार हो गये । इससे 1857 के स्वतन्त्रता संग्राम की भूमिका बनी । 

 

Leave a Comment