भारत छोड़ो आन्दोलन की असफलता के कारणों को स्पष्ट कीजिए ?

उत्तर – भारत छोड़ो आन्दोलन की असफलता का कारण यह है कि इस आन्दोलन में अधिकांश बड़े नेता बंदीगृह में थे । दूसरी बात यह है कि 10 फरवरी , 1943 को गांधीजी ने तीन सप्ताह का उपवास आरम्भ किया । गांधीजी की स्थिति चिन्ताजनक हो गई थी परन्तु अपने आत्मबल के सहारे उन्होंने उपवास पूर्ण किया । जब वे बंदीगृह में थे , तो उसी समय 23 फरवरी , 1944 को उनकी पत्नी कस्तूरबा गांधी की मृत्यु हो गई । इसके बाद आन्दोलन में धीरे – धीरे शिथिललता आने लगी । 6 मई , 1944 को सरकार ने बीमारी के आधार पर गांधीजी को रिहा कर दिया । भारत छोड़ो आन्दोलन कांग्रेस द्वारा प्रवर्तित आंदोलन था । इस आन्दोलन का मुस्लिम लीग , साम्यवादी दल , हिन्दू महासभा ने समर्थन नहीं किया । यद्यपि अन्य राजनीतिक दलों ने भी भाग नहीं लिया । 1942 का भारत छोड़ो आन्दोलन स्वाधीनता का घोषित लक्ष्य प्राप्त करने में असफल रहा । 

 

Leave a Comment